हिंदी कवित— बूंद बूंद के मिलने से | Hindi Poem- Boond Boond Ke Milne Se

नमस्कार, आज मैं आपको एक कविता के माध्यम से महत्वपूर्ण संदेश देना चाहता हूं जो हमारे लिए अत्यंत आवश्यक है लेकिन वर्तमान समय में इसके मूल्यों को समझा नहीं जा रहा और इसे व्यर्थ किया जा रहा है जी हां, मैं जल के बारे में बात कर रहा हूं हर एक व्यक्ति जानता है कि जल उसके जीवन के लिए कितना महत्वपूर्ण है लेकिन फिर भी कोई इसके मूल्य को नहीं समझता।

सच तो यह है कि, जब तक हम किसी वस्तु को खो नहीं देते तब तक हमें उस वस्तु का वास्तव में मूल्य पता नहीं चलता है अर्थात किसी वस्तु के रहते उसका मूल्य समझ पाना मुश्किल है हमने इस कविता को कई बार सुना और सोचा है, यह कितना सच है!

Hindi poem, poem in hindi
Hindi Poem

एक साधारण कविता जो मैंने स्कूल में सीखी थी वह किसी तरह मेरे दिमाग में इतने लंबे समय तक अटकी रही। मुझे यह कविता (Hindi Poem) बहुत सुंदर लगी और इसका सार भी बहुत मूल्य का है, इसकी लाइने कुछ इस प्रकार हैं—


बूंद बूंद के मिलने से
बन जाता है सागर,
सूत सूत के मिलने से
बन जाती है चादर। 

मिनट मिनट ही तो मिलकर
बन जाता है साल,
तन मन से तुम डटे रहो 
हल होंगे सभी सवाल। 

बूंद बूंद के मिलने से
बन जाता है सागर,
सूत सूत के मिलने से 
बन जाती है चादर।

पैसा पैसा जोड़ो तो
बन जाओगे धनवान,
थोड़ा-थड़ा चलकर ही तो 
देख सकोगे हिंदुस्तान। 

बूंद बूंद के मिलने से
बन जाता है सागर,
सूत सूत के मिलने से 
बन जाती है चादर। 

अच्छे अच्छे काम करो
और बातें प्यारी प्यारी,
देश हमारा झूम उठेगा 
नाच उठे की धरती सारी।


यह कविता (Hindi poem) हमें अनिवार्य रूप से यह बताती है कि थोड़ा सा, परिश्रम करके महान चीजों को हासिल किया जा सकता है।

  जैसे एक लाख बूँदें मिलकर एक महासागर बनाती हैं, वैसे ही मिनट मिनट मिलकर कई साल बन जाते हैं, मूल रूप से हर बात कितनी मायने रखती है।

 यह कविता (Poem in Hindi) मेरे दिमाग में तब आती है, जब मैं पानी का उपयोग करता हूं।  मैंने हमेशा इसे पानी का उपयोग करने के लिए, केवल उतना ही उपयोग करने के लिए एक बिंदु बनाया है, जितना कम से कम अपव्यय को कम करने के लिए।  इसलिए मूल रूप से, अनावश्यक रूप से चलने वाले नल, बुरी तरह से बनाए गए टपकता नल, कार और वाहन की सफाई के लिए पाइप का उपयोग करने वाले लोगों को बर्दाश्त नहीं कर सकता, जबकि वह वही काम एक बाल्टी पानी से भी कर सकते हैं फिर भी विडंबना यह है कि लोग पानी को बचाना नहीं चाहते।

इसे भी पढ़े: रोज सोने से पहले सपना मंजिल का देखता हूं

 वास्तव में, मैंने कार्यालय में एक महिला को देखा।
 महिला स्पष्ट रूप से अपने हाथ धो रही थी, खुशी से धीरे-धीरे उसके हाथ पर साबुन रगड़ रही थी और यह सब करते हुए उसने नल को खुला छोड़ दिया था।

 मैं 1 सेकंड भी नहीं रुका,  मैं वहां पहुंचा और नल बंद कर दिया और उससे कहा "जब आप जल का उपयोग नहीं कर रहे हैं तो क्या आप उसे बंद नहीं कर सकते" कृपया व्यर्थ पानी न बहाएं। ”  वह बहुत शर्मिंदा थी और उन्होंने इस बात की माफी भी मांगी।
कृपया आप भी पानी की बर्बादी को बिल्कुल भी बर्दाश्त ना करें, जिस स्थान पर जल के मूल्य को समझा नहीं जा रहा और इसे व्यर्थ ही बहाया जा रहा है कृपया उन्हें समझाएं कि हमारे लिए जल कितना महत्वपूर्ण है।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तो को भी शेयर करें ताकि वो भी जल के महत्व को समझें।

धन्यवाद!

Post a Comment

1 Comments