सुगम्य भारत अभियान | Sugamya Bharat Abhiyan

नमस्कार, आज हम बात करने वाले हैं Sugamya Bharat Abhiyan (Accessible India Campaign) के बारे में।

भारत में अनेक ऐसे लोग हैं जिनका एक साधारण व्यक्ति की तरह जीवन यापन करना थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि वह एक साधारण व्यक्ति की तरह चल—फिर नहीं सकते या ठीक से देख नहीं सकते।

यह समस्या कोई आम समस्या नहीं है यह बहुत पीड़ादायक होती है।

इन्हीं समस्याओं को ध्यान में रखते हुए Sugamya Bharat Abhiyan की शुरुआत की गई।
चलिए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

सुगम्य भारत अभियान | Sugamya Bharat Abhiyan

सुगम्य भारत अभियान (Accessible India Campaign) की शुरुआत भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 3 दिसंबर, 2015 को विकलांग व्यक्तियों के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस के अवसर पर की गई।

सुगम्य भारत अभियान को सुलभ भारत अभियान और Accessible India Campaign के नाम से भी जाना जाता है।
Sugamya Bharat Abhiyan
Sugamya Bharat Abhiyan - Accessible India Campaign

सुगम्य भारत अभियान विकलांग व्यक्तियों के लिए शुरू किया गया एक विशेष अभियान है।
यह सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के विकलांग जन सशक्तिकरण विभाग के द्वारा शुरू किया गया देशव्यापी अभियान है।


सुगम्य भारत अभियान का उद्देश्य | Purpose of Accessible India Campaign 

Sugamya Bharat Abhiyan का उद्देश्य विकलांग व्यक्तियों को जीवन के सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ने, भागीदारी करने के लिए सामान अवसर प्रदान करना एवं आत्मनिर्भर जीवन देना है।

Sugamya Bharat Abhiyan का लक्ष्य Physical Environment, Ecosystem सूचना एवं संचार विकसित करने पर केंद्रित है।

भारत में 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की 2.21% आबादी यानी लगभग 26.8 Million लोग विकलांगता से ग्रस्त हैं।

Sugamya Bharat Abhiyan का उद्देश्य देश के सभी सार्वजनिक स्थानों को अनुकूल बनाना है। जिससे कोई भी विकलांग व्यक्ति सामान्य जीवन जी सकता है और बाहर निकलने से पहले उसे सोचना ना पड़े।
 
  उदाहरण के लिए, सभी सरकारी भवनों, स्कूलों, कार्यालयों, पर्यटकों के स्थानों, रेलवे स्टेशनों, हवाई अड्डों को इन सभी को सुविधा पूर्ण बनाया जाएगा।

साथ ही, पूरे देश में पर्यावरण को बाधा रहित बनाने का इरादा है। यह विकलांग लोगों के लिए सार्वभौमिक पहुंच सुनिश्चित करेगा। इसी तरह, इस बात का भी खास ख्याल रखा जाएगा कि सभी लोगों को अपनी शारीरिक और मानसिक विकलांगता के बावजूद समान अवसर प्राप्त हों। इस तरह, वे दूसरों पर निर्भर रहने के बजाय स्वतंत्र हो सकते हैं।

इसके अलावा, यह इन सभी लोगों को बिना किसी हिचक के जीवन के हर क्षेत्र में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करता है। यह मिशन उन्हें आराम और आराम से भरा एक गरिमापूर्ण जीवन जीने का अधिकार प्रदान करेगा।

दृष्टिहीनों के लिए टीवी को अधिक सुविधाजनक बनाने के लिए विशेष सेट-टॉप बॉक्स उपलब्ध कराए जाएंगे। अगले 5 वर्षों में, लगभग 200 लोगों को सरकारी टीवी चैनलों पर सांकेतिक भाषाओं में बोलने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।

 इसके साथ ही Text To Speech विकल्प का उपयोग करके सरकारी वेबसाइटों को और अधिक अनुकूल बनाया जाएगा। इस पहल में नई इमारतों और परिवहन के लिए ऐसे मानकों को तैयार करना, जिसमें वे अलग-थलग, और अनुकूल हों।

साथ ही भारत सरकार की "Sugamya Bharat" मोबाइल ऐप बनाने की योजना है जो एक शहर में विकलांग व्यक्तियों के अनुकूल एवं सार्वजनिक सुविधाओं के बारे में जानकारी दे सकता है इसे Sugamya Bharat योजना के तहत लॉन्च किया जाएगा।

  इस पहल के द्वारा एक विश्वविद्यालय की स्थापना का भी प्रस्ताव रखा है जिससे सामान्य लोगों की तरह विकलांग व्यक्तियों के लिए भी पाठ्यक्रम संचालित किया जा सके।

Sugamya Bharat Abhiyan के तहत यह पाया गया कि सरकार ने जो लक्ष्य निर्धारित किया था वह पूर्ण रूप से पूरा ना हो सका।

इसे भी पढ़ें 👇


सरकार के सुगम्य भारत अभियान (Accessible India Campaign) की समय सीमा धीमी प्रगति के कारण मार्च 2020 तक बढ़ा दी गई है।

अब सरकार ने इस पहल के तहत सभी कामों को पूरा करने की नई समय सीमा मार्च 2020 निर्धारित करी है।

सुगम्य भारत अभियान (Accessible India Campaign) के बारे में नई जानकारी मिलने पर हम इस पोस्ट को अपडेट करेंगे और आप तक सटीक जानकारी पहुंचाएंगे।

हमारे Blog से बने रहने के लिए हमारे Blog पर इस पोस्ट के नीचे अपना ईमेल पता डालकर हमारे Blog की सदस्यता लेना (Subscribe) ना भूले।

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें नीचे Comment Box में अवश्य बताएं यदि आपकी कोई समस्या या सुझाव है तो आप हमें Comment Box में बता सकते हैं या हम से सीधे Contact us के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं।
धन्यवाद।



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां